प्यारी मिनी और उसकी सहेलियों की कामुकता और चुदाई

(Pyari Mini Aur Uski Saheliyon Ki Kamukta Aur chudai)

मेरा नाम मिनी है. मेरी उम्र 19 साल की है और मैं बहुत ही खूबसूरत हूँ. मेरी दो सहेलियां हैं जिनका नाम निशा और ऊषा है. वो दोनों मेरे साथ ही कॉलेज में पढ़ती थीं. हम तीनों ही बहुत ही सेक्सी थी. कॉलेज में ही हमारा ढेर सारे लड़कों से शारीरिक सम्बन्ध था. हम तीनों ही उन सब लौंडों से खूब चुदवाती थीं.ऊषा चुदवाने में सबसे ज्यादा तेज थी. ऊषा हमेशा ही खूब लम्बे और मोटे लंड की तलाश में रहती थी.निशा को कई लड़कों से एक साथ चुदवाने में ज्यादा मजा आता था लेकिन उसे ज्यादा लम्बा और मोटा लंड पसंद नहीं था. जहाँ तक मेरा सवाल है तो मुझे एक साथ चुत और गांड दोनों में लंड लेना पसंद था.

पढ़ाई खत्म होने के बाद निशा और मैं 2 साल के लिए दूसरे शहर में पढ़ने चली गई. हमारे जाने के 6 महीने के बाद ही ऊषा की शादी उसी शहर में जय के साथ हो गई थी. जय बहुत ही अमीर आदमी था और अय्याश भी था. ऊषा ने हम दोनों को भी शादी में बुलाया लेकिन हम उसकी शादी में नहीं आ सकी.

ऊषा ने अपनी शादी की दूसरी सालगिरह पर हम दोनों को बुलाया. मैं निशा के साथ ऊषा के पास आ गई. ऊषा ने हम दोनों को देखा, तो बहुत खुश हो गई. हम सबने आपस में खूब बातें की.

ऊषा ने मुझे बताया कि वो शादी के बाद से और ज्यादा सेक्सी हो गई थी और वो कई आदमियों से चुदवा चुकी थी. उसकी एक दलाल से जान पहचान हो गई थी, जो कि अमीर औरतों को आदमी सप्लाई करता था. मैं जानती थी कि ये मुंबई के लिए आम बात है.

ऊषा ने हम दोनों को लगभग 150 आदमियों के फोटो दिखाए और बोली- मैं इन सबसे चुदवा चुकी हूँ. वो सभी आदमी फोटो में एकदम नंगे थे. उन सब आदमियों का लंड एक से बढ़कर एक था. किसी का भी लंड 8″ से कम लम्बा नहीं था.

मैंने ऊषा से कहा- इन सबका लंड तो बहुत ही लम्बा और मोटा है.
वो बोली- तू तो जानती ही है कि मुझे तो खूब मोटा और लम्बा लंड ही पसंद आता है और उसी से चुदवाने में मुझे मजा भी आता है. आज मैंने एक पार्टी रखी है. आज हम सब सारी रात चुदाई का पूरा मजा उठाएंगे.

फिर ऊषा ने 6 मर्दों के फोटो हमारे सामने रखते हुए कहा- मैंने आज इन सबको बुलाया है.
मैंने पूछा- अगर जय आ गया तो?
वो बोली- वो तो महीने में 25 दिन बाहर ही रहता है. इसीलिए तो मैंने दूसरे आदमियों से चुदवाना शुरू किया है.
मैंने कहा- जय तुझे कुछ कहता नहीं है?
वो बोली- वो भी तो अय्याश है और तमाम लड़कियों को चोदता रहता है. मैं उसके सामने भी कई बार चुदवा चुकी हूँ.
मैंने कहा- तो फिर तूने आज 6 मर्दों को क्यों बुलाया है?
ऊषा बोली- क्या तुम सबको नहीं चुदवाना है?
मैंने कहा- चुदवाना तो है लेकिन 6 मर्द एक साथ?
वो बोली- तो क्या हुआ? ज्यादा लंड होंगे तभी तो चुदाई का असली मजा आएगा.

मैंने कहा- इन सभी के लंड 11″ से कम नहीं हैं.
वो बोली- इसीलिए मैंने केवल इन्हें ही बुलाया है. मैं तो आज रात इन सबसे कम से कम 1 बार जरूर चुदवाऊंगी.
निशा बोली- ऊषा, तू तो जानती है कि मुझे कई मर्दों से एक साथ चुदवाना पसंद है, लेकिन मैं ज्यादा लम्बा और मोटा लंड पसंद नहीं करती.
ऊषा बोली- छोड़ यार, तूने लम्बे और मोटे लंड का मजा कभी लिया ही नहीं, फिर तू क्या जाने कि खूब लम्बे और मोटे लंड से चुदवाने का मजा क्या होता है. आज तो मैं तुझे इन सबसे जरूर चुदवाऊंगी.
निशा बोली- तब मेरी हालत एकदम खराब हो जाएगी क्योंकि इसमें से किसी का लंड 11″ से कम लम्बा नहीं है. मैं तो सुबह तक बिस्तर पर से हिलने डुलने के काबिल ही नहीं रहूँगी.
ऊषा बोली- क्यों तुझे कल सुबह कहीं जाना है क्या?
निशा बोली- नहीं यार, कहीं नहीं जाना है. हम दोनों तो तेरे पास कम से कम 10 दिनों तक रहेंगी.
ऊषा बोली- फिर सारा दिन तू बिस्तर पर ही आराम करना.
निशा- ठीक है.

उसके बाद ऊषा ने मुझसे कहा- तेरा क्या ख्याल है मिनी?
मैंने कहा- तू तो जानती ही है, मुझे एक साथ दो लंड अन्दर लेना पसंद है. मुझे तो कोई दिक्कत नहीं है. मैं पहले भी 11″ लम्बा लंड अन्दर ले चुकी हूँ. मैं तो इन सबसे कम से कम 2 बार जरूर चुदवाऊंगी.
ऊषा बोली- फिर ठीक है. आज रात हम सबको चुदवाने में खूब मजा आएगा.

सारा दिन हम गपशप करते रहे. रात के 8 बजे एक सूमो आकर खड़ी हुई. उसमें से 6 हट्टे कट्टे जवान मर्द बाहर आए. मैं उन्हें देखकर खुश हो गई. निशा उन्हें देख कर थोड़ा परेशान हो गई.

ऊषा ने निशा से पूछा- तू क्यों परेशान है.
वो बोली- इन सबके लंड के बारे में सोच कर मैं परेशान हूँ.
ऊषा बोली- फिर तो आज सबसे पहले मैं तेरी ही चुदाई कराऊंगी.
निशा बोली- नहीं, मैं सबसे बाद में चुदवाऊंगी.
ऊषा ने कहा- तू लाख कोशिश कर ले लेकिन आज मैं सबसे पहले तुझे ही इन सबके हवाले करूँगी. ये सब तेरी चुदाई कर करके तेरी चुत को एकदम चौड़ा कर देंगें.
निशा बोली- इसका मतलब आज तू मेरा कत्ल करवाने पर तुली है.
ऊषा बोली- कुछ ऐसा ही समझ ले.
निशा बोली- ये सब मेरी चुत की हालत खराब कर देंगें और साथ में मेरी भी.

ऊषा बोली- मुझसे शर्त लगा ले. कल सुबह के पहले अगर तूने खुद ही इस अनिल से दोबारा नहीं चुदवाया तो मैं अपना नाम बदल दूँगी.
निशा बोली- ये अनिल कौन है?
ऊषा बोली- अनिल सबसे ज्यादा देर तक चोदता है और बहुत ताकतवर भी है. मैं सबसे पहले उसी से तेरी चुदाई कराऊंगी.

ये सुन कर निशा चुप हो गई.

वो सभी अन्दर आ गए.

ऊषा ने कहा- तुम सब कुछ पियोगे?
उसमें से एक बोला- आज रात बहुत मेहनत करनी है. हो सके तो कुछ ड्रिंक पिला दो.
ऊषा ने उन सबको 1 बोतल शराब लाकर दे दी.

वो सब शराब पीने लगे.

ऊषा ने निशा की तरफ़ इशारा करते हुए अनिल से कहा- ये मेरी सहेली निशा है. आज तक इसने 7″ से ज्यादा लम्बे लंड से नहीं चुदवाया है. तुम सबसे पहले इसकी चुदाई करो. मैं नहीं चाहती कि इसे बार बार तकलीफ़ उठानी पड़े. तुम इसकी चुत में एकदम बेरहमी से अपना लंड घुसा देना.
अनिल बोला- मैडम, फिर तो ये बहुत चिल्लाएगी.
ऊषा ने कहा- तो क्या हुआ… एक बार ही तो चिल्लाएगी, उसके बाद इसे इन सबसे चुदवाने में मजा आएगा.
वो बोला- ठीक है मैडम, मैं एकदम रेडी हूँ, आप कहें तो मैं चुदाई शुरू कर दूँ?
ऊषा बोली-हाँ, शुरू कर दो.
निशा ने ऊषा से कहा- तू मुझे मरवाएगी क्या?
ऊषा बोली- नहीं यार, मैं एक बार में ही तेरा काम तमाम कर देना चाहती हूँ, जिससे हम सब एक साथ मजा ले सकें. इसीलिए तो मैं सबसे पहले अनिल से ही तेरी चुदाई करने को कह रही हूँ.

तब तक अनिल निशा के पास आ गया. उसका लंड एकदम टाईट हो चुका था. उसका लंड लगभग 11″ लम्बा और 3″ मोटा था और वो बहुत ताकतवर भी लग रहा था. उसने निशा के सारे कपड़े उतार दिए और उसे बेड के किनारे लिटा दिया. उसके बाद वो निशा के पैरों के बीच में जमीन पर खड़ा हो गया.

उसने निशा की चुत के मुँह को फैला कर अपना लंड बीच में रख दिया.

ऊषा ने बाक़ी के आदमियों को इशारा कर दिया, तो वो सभी निशा के पास आ गए. उन सबने निशा के हाथ जोर से पैर पकड़ लिए. एक ने अपना लंड निशा के मुँह में दे दिया. निशा उसका लंड चूसने लगी. तभी अनिल ने एक धक्का मारा. निशा ने उस आदमी का लंड अपने मुँह से बाहर निकाल दिया और जोर जोर से चिल्लाने लगी. उस आदमी ने दूसरा धक्का लगाया तो निशा बुरी तरह से चीखने लगी.

ऊषा बोली- तू इतना चीख क्यों रही है.. साली 7″ लम्बा लंड तो तू पहले ही अन्दर ले चुकी है. इसका लंड तो अभी तेरी चुत में केवल 5″ ही घुसा है.
निशा बोली- इसका मोटा भी तो बहुत है.
अनिल जैसे ही रुका तो ऊषा ने उसे जोर से डांटा- क्यों बे, रुक क्यों गया. घुसा अपना पूरा लंड इसकी चुत में.
अनिल बोला- गलती हो गई मैडम. अब मैं नहीं रुकूँगा.

अनिल ने पूरी ताकत के साथ बहुत ही जोरदार दो धक्के लगाए. इन दो धक्कों के साथ ही उसका लंड निशा की चुत में 8″ तक अन्दर घुस गया. निशा की चुत से खून निकलने लगा और वो बहुत ही बुरी तरह से चिल्लाने और तड़फने लगी. निशा का सारा बदन पसीने से लथपथ हो चुका था.

अनिल ने एक गहरी सांस लेते हुए दो बहुत ही जोरदार धक्के और लगा दिए. इन दो धक्कों के साथ ही उसका लंड निशा की चुत में 10″ तक अन्दर घुस गया. निशा की चुत बुरी तरह से फैल चुकी थी. उसकी चुत ने अनिल के लंड को बुरी तरह से जकड़ रखा था. तभी अनिल ने पूरे ताकत के साथ बहुत ही जोर का धक्का मारा. इस धक्के के साथ ही उसका पूरा का पूरा लंड निशा की चुत में समा गया. उसके बाद अनिल ने निशा की चुदाई शुरू कर दी.

ऊषा ने निशा से कहा- आखिर तूने इसका 11″ लम्बा लंड अन्दर ले ही लिया. अब तो तुझे खूब मजा आ रहा होगा.
वो बोली- मैं दर्द के मारे मरी जा रही हूँ और तुझे मजाक सूझ रहा है.
ऊषा बोली- मेरी जान, बस 10 मिनट में ही तू एकदम पक्की चुदक्कड़ बन जाएगी और तुझे वो मजा आएगा कि तू भी मेरी तरह कभी छोटा और पतला लंड पसंद ही नहीं करेगी.
निशा मजा लेते हुए बोली- ये तो है.. लम्बा और मोटा लंड अन्दर लेने के बाद छोटा लंड भला किसे पसंद आएगा.

अनिल निशा को चोदता रहा और निशा मजे से चिल्लाती रही. दस मिनट की चुदाई के बाद जब निशा शांत हो गई तो ऊषा ने अनिल से कहा- अब तू रहने दे.
निशा बोली- अब मुझे मजा आ रहा है तो तू इसे मना क्यों कर रही है.
ऊषा बोली- अब तुझे रमेश चोदेगा, फिर उसके बाद राज.. जब तक मैं नहीं कहूँगी तब तक कोई भी अपने लंड का जूस तेरी चुत में नहीं निकालेगा.
निशा कलप कर बोली- तू ऐसा क्यों कर रही है?
ऊषा बोली- बस, तू केवल देखती जा.

अनिल हट गया तो रमेश निशा को चोदने लगा. करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद राज ने निशा को चोदना शुरू किया. उसने भी लगभग 15 मिनट तक निशा की चुदाई की. उसके बाद कमल, केशरी और शिव ने निशा को लगभग 15-15 मिनट तक चोदा. निशा को अब मजा आने लगा था और उसे अब जरा सा भी दर्द नहीं हो रहा था. ऊषा ने सभी को मना कर रखा था, इसलिए किसी ने अपने लंड का जूस उसकी चुत में नहीं निकाला.

ऊषा ने अनिल और रमेश से मुझे चोदने को कहा. उन दोनों का लंड एक ही साइज़ का था. मैं अनिल के ऊपर आ गई और उसका लंड अपनी चुत में डाल लिया. रमेश मेरे पीछे आ गया और उसने अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया. उसके बाद वो दोनों मुझे चोदने लगे.

राज ऊषा को चोदने लगा. ऊषा भी खूब मज़े ले ले कर चुदवा रही थी. मुझे भी खूब मजा आ रहा था.

बहुत दिनों के बाद मुझे बहुत अच्छे लंड से एक साथ चुदवाने का मौका मिला था. मैं भी जोर जोर से सिसकारियां भरते हुए उन दोनों के जोश को बढ़ा रही थी. वो दोनों भी बहुत ताकतवर थे और बहुत ही जोर जोर के धक्के लगा रहे थे.

उधर निशा पूरी मस्ती के साथ कमल, केशरी से चुदवा चुकी थी. अब उसे शिव चोद रहा था. उसे चुदवाते हुए लगभग 1 घंटे हो चुके थे. वो अब तक कई बार झड़ भी चुकी थी. अनिल और रमेश भी मुझे लगभग 30 मिनट तक चोद चुके थे. उन दोनों के हट जाने के बाद कमल और केशरी मुझे चोदने लगे. वो दोनों मेरी चुत और गांड की बुरी तरह से धुनाई कर रहे थे. मैं भी एकदम मस्ती के साथ चुदवा रही थी.

ऊषा ने सभी को मना कर रखा था कि किसी के लंड से जूस नहीं निकलना चाहिए. वो सभी जब झड़ने वाले होते तो हट जाते थे. जब थोड़ी देर में उनका जोश कुछ ठंडा पड़ जाता तो वो फिर से शुरू हो जाते थे. वो सभी बारी बारी से हम तीनों की चुदाई कर रहे थे.

लगभग 3 घंटे तक हम सबकी चुदाई चलती रही. ऊषा ने उन सबसे कहा- अब तुम सब रुक जाओ. वो सब हमारी चुतों से अपना लंड बाहर निकाल कर खड़े हो गए.

ऊषा ने कहा- अनिल, अब तुम्हें मेरी गांड मारनी है.
अनिल बोला- मैडम, आप ने आज तक कभी गांड नहीं मरवाई है.
वो बोली- तो क्या हुआ. आज मेरे साथ मेरी सहेलियां भी हैं, इसलिए आज मैं गांड भी मरवाऊंगी. तुम मेरी गांड मारना शुरू कर दो. मुझ पर जरा सा भी रहम मत करना और पूरा का पूरा लंड मेरी गांड में घुसेड़ कर ही दम लेना.
वो लंड सहलाता हुआ बोला- ठीक है मैडम.
उसके बाद ऊषा ने रमेश से कहा- रमेश, तुम निशा की गांड मारो और अपना पूरा लंड उसकी गांड में घुसा कर ही रुकना. नहीं तो समझ लो कि मैं तुम्हारे साथ क्या सलूक करूँगी.
वो बोला- मैडम, मैं कोई गलती नहीं करूँगा.
निशा बोली- तू मुझे क्यों मारने पर तुली हुई है.
ऊषा बोली- मैंने इसीलिए 6 आदमियों को बुलाया था. अब तू रमेश का लंड अपनी गांड के अन्दर लेगी और मिनी राज से गांड मरवाएगी. उसके बाद हम सबको 2-2 आदमी एक साथ चोदेंगें.

अनिल ने ऊषा की गांड में अपना लंड घुसाना शुरू कर दिया. ऊषा बहुत जोर जोर से चिल्ला रही थी. रमेश भी अपने लंड का सुपारा निशा की गांड के छेद पर रख चुका था.

निशा ने ऊषा से कहा- खुद तो दर्द के मारे मरी जा रही है और मुझे भी फंसा दिया.

तभी रमेश का बहुत ही जोर का धक्का लगा. निशा जोर जोर से चीखने लगी. मैं खड़ी हो कर तमाशा देख रही थी. अनिल और रमेश पूरी ताकत के साथ जोर जोर के धक्के लगा रहे थे. सारा रूम चीखों से गूँज रहा था.

तभी राज ने मुझसे कहा- मैडम मैं भी शुरू कर दूँ?
मैंने कहा- मैं तो आदी हूँ. जरा इन दोनों की गांड में पूरा लंड तो घुस जाने दो उसके बाद तुम मेरी गांड मार लेना.

फिर 5 मिनट में ही ऊषा और निशा की गांड में उन दोनों का पूरा का पूरा लंड समा चुका था. वो दोनों अब उनकी गांड मार रहे थे.

मैंने राज से कहा- चलो अब तुम भी शुरू हो जाओ.

यह कहानी आप autofichi.ru में पढ़ रहें हैं।

राज ने मेरी गांड मारनी शुरू कर दी. ऊषा और निशा अभी भी बहुत जोर जोर से चीख रही थीं.

राज बहुत ही जोर जोर के धक्के लगाता हुआ मेरी गांड मार रहा था. मुझे खूब मजा आ रहा था. दस मिनट के बाद ऊषा और निशा शांत हो गईं. अब उन दोनों की गांड में अनिल और रमेश का लंड सटासट अन्दर बाहर होने लगा था. उन दोनों ने 10 मिनट तक और गांड मरवाई.

उसके बाद ऊषा बोली- अनिल और रमेश अब तुम दोनों रुक जाओ.

उन दोनों ने अपना लंड उनकी गांड से बाहर निकाला और हट गए.

ऊषा बोली- रमेश तुम लेट जाओ. मैं तुम्हारे ऊपर आ कर तुम्हारा लंड अपनी चुत में डाल लेती हूँ और कमल पीछे से मेरी गांड मारेगा.

उसके बाद ऊषा ने अनिल से कहा- तुम भी लेट जाओ. निशा तुम्हारे ऊपर आ कर तुम्हारा लंड अपनी चुत में डाल लेगी और केशरी उसके पीछे आ कर उसकी गांड मारेगा.

उसके बाद ऊषा ने शिव से कहा- मिनी राज का लंड अपनी चुत में डाल लेगी और तुम पीछे से उसकी गांड मारना. इस बार तुम सब हमारी चुत और गांड को अपने लंड के जूस से भर देना.
वो सब बोले- ठीक है मैडम.

ऊषा ने जैसा कहा था, ठीक उसी तरह से हम सबकी चुदाई शुरू हो गई. लगभग 1 घंटे तक हमारी खूब जम कर चुदाई हुई. निशा ने पूरी मस्ती के साथ 2-2 लंड का एक साथ मजा लिया. ऊषा ने भी पहली बार गांड मरवाने का पूरा मजा उठाया.

ऊषा ने निशा से पूछा- क्यों बेबी, मजा आया?
निशा मुस्कुराते हुए बोली- कसम से बहुत मजा आया. मैं ज्यादा लम्बे और मोटे लंड से बहुत डरती थी लेकिन आज मेरा सारा डर खत्म हो गया. अब तो मैं हमेशा केवल खूब लम्बे और मोटे लंड से ही चुदवाऊंगी. तुम इन सभी से कह दो कि बिना रुके ही खूब जम कर मेरी चुदाई करें और मेरी चुत और गांड को अपने लंड के जूस से एकदम भर दें.
ऊषा हंस कर बोली- ऐसा ही होगा, रानी जी.

निशा ने आँख मार दी.

ऊषा ने उन सबसे कहा- तुमने सुना कि ये क्या कह रही हैं. अब तुम सब शुरू हो जाओ और मेरी सहेली को एकदम मस्त कर दो. ये जब तक मना ना करे, तुम सब इसे खूब जम कर चोदना.

उन सभी ने सुबह होने तक निशा को तरह तरह के आसनों में खूब जम कर चोदा और उसकी गांड मारी. सुबह को निशा ने उन सभी को खुद ही मना कर दिया. वो एकदम मस्त हो चुकी थी और थक कर चूर भी.

उसके बाद ऊषा ने उन सबसे कहा- तुम सब 1-2 घंटे आराम कर लो. उसके बाद मिनी को भी इसी तरह से चोदना.
मैंने ऊषा से कहा- क्या तू ऐसे ही रहेगी?
ऊषा बोली- मेरा क्या, मैं तो हमेशा ही चुदवाती रहती हूँ. तुम दोनों मेरी सहेली हो और मेहमान भी.. पहले तुम दोनों का अच्छी तरह से स्वागत होना चाहिए.

उन सबने 2 घंटे तक आराम किया और फिर उसके बाद वो सब मुझ पर टूट पड़े. उन्होंने बहुत देर तक लगातार खूब जम कर मेरी चुदाई की और मेरी गांड भी मारी. मैं भी निशा की तरह से एकदम मस्त हो गई. मुझे बहुत दिनों के बाद चुदाई का मजा मिला और वो भी जी भर के मिला.

दोपहर के 3 बजे वो सब जाने लगे तो ऊषा ने अनिल, रमेश और राज से कहा- तुम तीनों रात के 8 बजे आ जाना.

उसके बाद वो सब चले गए. निशा ने ऊषा से कहा- अब जब मुझे चुदाई का असली मजा मिल गया है तो तूने आज केवल तीन को ही क्यों बुलाया है.
ऊषा बोली- मेरी रानी, देखती जाओ.

ऊषा ने अपने दलाल को फोन किया और उससे कहा कि रात के 8 बजे 6 आदमियों को और भेज देना लेकिन एक बात का ध्यान रखना कि उन सभी का लंड 11″ से कम नहीं होना चाहिए और साथ में खूब मोटा भी होना चाहिए.
दलाल ने कहा कि भेज दूँगा.

रात के 8 बजे सूमो से 9 लोग आ गए. उन सभी का लंड एक से बढ़ कर एक था. उसमें से एक का नाम जयंत था. उसका लंड देखते ही निशा बहुत खुश हो गई.

ऊषा ने निशा से पूछा- क्या बात है, तू जयंत को देख कर बहुत खुश हो रही है?
निशा बोली- मुझे इसका लंड बहुत ही शानदार लग रहा है. मैं तो आज सबसे पहले इसी से चुदवाऊंगी.
ऊषा ने कहा- तू तो ज्यादा लम्बे और मोटे लंड से बहुत डरती थी.. आज तुझे क्या हो गया?
निशा बोली- तूने खूब लम्बे और मोटे लंड से मेरी चुदाई करा कर मेरी चुत और गांड में आग लगा दी है. अब तो मुझे इस आग को बुझाना ही है.
ऊषा बोली- शाबाश बेबी, आखिर तू जान ही गई कि असली मजा क्या होता है.

जयंत का लंड लगभग 12″ लम्बा था और उन सभी के लंड से बहुत मोटा भी था. जयंत ने निशा की चुदाई शुरू कर दी. निशा जोर जोर से चीखने लगी.. लेकिन आज वो ज्यादा नहीं चीखी और थोड़ी ही देर में शांत हो गई. उसे जयंत से चुदवाने में खूब मजा आया. जयंत से चुदवाने में मैं भी बहुत चीखी और चिल्लाई लेकिन बाद में मुझे भी खूब मजा आया. ऊषा का भी वही हाल हुआ. वो भी बहुत चीखी और चिल्लाई लेकिन बाद में उसे भी खूब मजा आया.

सुबह तक उन सभी ने हमारी खूब जम कर चुदाई की और गांड भी मारी. हम सब पूरी तरह से मस्त हो चुकी थीं. उसके बाद वो सब चले गए.

मैं निशा के साथ ऊषा के पास 10 दिनों तक रही. हम सबने खूब जम कर चुदाई का मजा लिया.

एक दिन तो ऊषा ने एक साथ 15 आदमियों को बुला लिया था. उन सभी ने तो हमारा चोद चोद कर बुरा हाल कर दिया. वो सभी रात के 8 बजे आए थे उन्होंने दूसरे दिन दोपहर तक हमारी खूब जम कर चुदाई की और गांड भी मारी. उन सभी ने उस दिन हम तीनों को चोद चोद कर और हमारी गांड मार मार कर ऐसा बुरा हाल कर दिया था कि उनके जाने के बाद हम तीनों शाम तक बिस्तर पर से उठने के काबिल ही नहीं रह गए थे.

मेरी चुत और गांड का मुँह पहले से भी ज्यादा चौड़ा हो चुका था. निशा का तो पूछो मत, उसकी चुत और गांड भी एक चौड़े साइज़ की हो चुकी थी. उसे ही सबसे ज्यादा मजा आया. उसके बाद मैं निशा के साथ वापस चली आई.

वापस आते समय ऊषा ने कहा- जब कभी भी इच्छा हो, आ जाना.
मैंने कहा- मैं जरूर आऊँगी.
निशा बोली- क्या तू मुझे अपने साथ नहीं ले आएगी?
मैंने निशा से मजाक किया, तुझे तो ज्यादा लम्बा और मोटा लंड पसंद ही नहीं है. फिर तू आकर क्या करेगी.
निशा ने मेरे गाल काट लिए और बोली- मेरी चुत और गांड में तो अभी भी आग लगी हुई है.
मैंने कहा- चल मैं तेरे लिए फ़िर से लंड ब्रिगेड बुला दूँगी. मेरी बात सुनकर वो जोर जोर से हंसने लगी.



"sister sex stories""sexy story hindhi""classmate ko choda""hot sex story com""hot sexy stories in hindi""hindi sexy khani""mastram ki kahaniyan""hot sexy stories""bhabi ko choda""indian sex stoties""xxx hindi stories""teacher ko choda""hindi sexy khaniya""sexy storoes""meri bahen ki chudai""hindi sex khani""mami ke sath sex story""real sex stories in hindi""indian sexchat""baap aur beti ki chudai""पोर्न स्टोरीज""sexy stoties""hindi kamukta""hindisexy stores"sexstories.com"chodan. com""sex stories hindi""wife sex stories""latest indian sex stories""mom chudai story""hotest sex story""sex with mami""sex stories latest""indian sex storied""hindi sexy stories.com""indain sex stories""sexy hindi kahaniya""sadhu baba ne choda""indian sex sto""chachi ki chudai hindi story""sex story very hot""aunty sex story""kamukta hindi sex story""maa beti ki chudai""www sexy khani com""indian sex syories""sasur se chudwaya""sex story in odia""sax storis""first chudai story""indian porn story""hinde sexe store""sexy story in himdi""office sex story""indian sec stories""train sex stories"kamukat"anni sex stories""sex stories with images""hot story hindi me""hindi chudai kahaniya""sexy strory in hindi""bur land ki kahani"hotsexstory"hindi incest sex stories""antarvasna sexstories""jija sali""kamukta story""free hindi sex store""sexi khani in hindi""sexy strory in hindi""indian sex storues""hot hindi sex stories""meri pehli chudai"chudaikikahani"chachi ki chudae""www hindi hot story com""dirty sex stories""gay sexy story"