मामी की गांड चोद कर सुहागरात मनायी-2

(Mami Ki Gand Chod Kar Suhagrat Manayi- Part 2)

मेरी इस कहानी के पहले भाग
मामी की गांड चोद कर सुहागरात मनायी-1
में आपने पढ़ा कि मेरी मामी की गांड ने मेरे लंड से दोस्ती कर ली थी.

अब आगे..

मैं मामी जी गांड मारता चला गया. मेरी गोटियां अब मामी के मुलायम नितंबों से टकरा रही थीं. मैं आराम से अपना आठ इंच लम्बे लंड को मामी की गांड में अन्दर बाहर कर रहा था. उनकी मक्खन जैसी कोमल मुलायम गांड में मेरा लंड बड़े प्यार से चल रहा था.

मामी जी भी अपनी गुदा ढीला करके, पूरा दिल खोल के खुशी से गांड मरवा रही थीं. वो अपनी गांड पीछे धकेल कर मेरा मोटा लंड अपनी गांड में ले रही थीं. उनको बहुत मज़ा आने लगा था. मामी जी बहुत ही उत्तेजित हो गई थीं.

उसी वक्त मैंने महसूस किया कि उनका जिस्म काँपने लगा. उनकी चूत में से योनि रस निकलने लगा, वो झड़ गई थीं.
मैंने देखा कि नीचे बेडशीट गीली हो गई थी क्योंकि उनकी चूत में से लगातार पानी निकल रहा था. इधर धीरे-धीरे मेरे धक्के तेज़ होने लगे थे.

मामी जी- अहहहहाआ इईई.. श्शशश.. आआह.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… आउऊच.. श्श.. अया.. उई अई.. ह.. ऊऊऊओ.. मज़ा आ गया.. ऊफ्फफ.. फाड़ दे अपने लौड़े से मेरी गांड.. अया.. अब मैं तेरी बीवी हो गई हूँ.. आअ.. उईई.. उन्हह.. सुहागरात को आपके मामा जी ने मेरी कुंवारी चूत चोदी थी और आज आप उईई.. अहहहहाआ.. मेरी कुंवारी गांड मार रहे हो.. आह.. चोद मेरे राजा चोद मुझे.. जी भर के चोद आआअ.. उम्म उफ़फ्फ़ हाय मजा आ गया.

इसी के साथ मेरे धक्के और भी तेज होते जा रहे थे, मैं मामी जी को पूरे जोश के साथ चोद रहा था. गांड में तेल लगाने के कारण मेरा लंड पच पच की आवाज के साथ अन्दर बाहर हो रहा था.

मैं- मामी जी मेरी जान.. आपने तो मुझे जन्नत की सैर ही करवा दी आह.. मेरी जान.. मैं तो.. मैं.. तो.. ग..गयाआ.. आआह.. मेरा पानी निकलने वाला है, कहाँ निकालूँ?
मामी बोलीं कि मेरी गांड में ही अपना पानी निकाल दो..
फिर मैंने ‘ये आअहह.. ऊहह.. लो..’ कहा और उनकी गांड में ही अपना वीर्य छोड़ दिया.

मैं सारा वीर्य उनकी गांड में आखिरी बूँद तक डालकर ऐसे ही कुछ देर तक उनके ऊपर लेटा रहा. फिर जब मैंने अपना आधा सिकुड़ा हुआ लंड उनकी गांड से बाहर निकाला तो मैंने देखा कि उनकी गांड मेरे वीर्य से लबालब भरी हुई थी और थोड़ा थोड़ा करके उनकी गांड से वीर्य उनकी चूत की तरफ बहने लगा था.

फिर मैं उनके बगल में आकर लेट गया और वो मेरी तरफ करवट करके मेरे कंधे पर अपना सर रखकर लेट गईं. उनका नंगा मुलायम शरीर सच में बहुत खूबसूरत लग रहा था. हम दोनों मामी भांजे एक दूसरे से पूरी तरह से लिपट गए. थोड़ी देर बाद मैं उनके चेहरे तथा होंठों को चूमने लगा, साथ ही प्यार से में उनके गाल को चूमने लग गया.

फिर मैंने धीरे से उनके कान में कहा- मजा आया मामी जी.. कैसा लग रहा है?
मामी जी- आज से पहले मुझे पता ही नहीं था कि गांड चुदाई में इतना मज़ा आता है.. मुझे इसमें दर्द तो हुआ, पर मजा चूत चुदाई से दुगना मिल रहा था. अगर तुम नहीं होते तो मेरी जवानी एसे ही बेकार चली जाती … आज के बाद मैं तुम्हारी पत्नी हूँ.. जो कुछ में अपने पति के लिए करती हूँ, वो सब तुम्हारे लिए करूँगी.

थोड़ी देर बाद मामी जी ने अपनी लेफ्ट जाँघ को उठा कर मेरी कमर पे रख दी और प्यार से मेरे होंठों को चूमने लगीं. फ़िर मैंने हाथ बढ़ाकर मामी जी के नितंबों को दबाना शुरू कर दिया. उनकी गुदा का छेद अब एकदम नरम और चिपचिपा गीला था, खुला हुआ भी लग रहा था.

मैंने अपनी बीच की उंगली मामी की खुली हुई गांड में डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा. मामी मस्ती से गनगना उठीं.

“हां.. और कर ना.. अच्छा लगता है.. कितनी अच्छी उंगली करते हो राहुल…”

यह कहते हुए मामी जी का हाथ खुद बा खुद ही मेरे के तने लंड की तरफ उठ गया और उन्होंने मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में भर लिया. वे लंड को धीरे धीरे सहलाने लगीं. मेरा लंड अब पूरी तरह से उत्तेजित होकर अकड़ गया था और मामी जी की गीली चूत में मेरा लंड घुसने की कोशिश कर रहा था.

मामी को इसका अहसास होते ही उन्होंने लंड को सहलाना बंद कर दिया और अपने दोनों हाथों से मेरे सर के बालों को सहलाते हुए अपने होंठों को मेरे होंठों पर रख दिया. मैं भी पागलों की तरह अपनी मामी के गुलाबी रसीले होंठों को चूसने लगा. नीचे मेरा लंड उनकी चूत की फांकों पर रगड़ खा रहा था.

मामी अपनी चूत की फांकों पर मेरे लंड की रगड़ को महसूस करके बुरी तरह मचल रही थीं. वो अपनी कमर को इधर उधर हिलाते हुए खुद भी अपनी चूत को लंड पर रगड़ने लगीं. इसी बीच मेरा लंड मामी जी की चूत के छेद पर जा भिड़ा.

मामी जी ने सिसकारी लेते हुए और मदहोशी से भरी हुई आंखों से मेरी आंखों में देखते हुए कहा- ऊऊऊ राहुल अब डाल भी दे.. कितना तड़पाएगा चुत में आग सी लग गई है.
मैं- मामी जी मुझे तो आपकी गांड मारनी है.
मामी- हां जानू, मुझे भी गांड मरवानी है, पर इसके पहले इस चुत को शान्त कर दे, बड़ी खुजली हो रही है.

मुझे भी अपनी मामी की चूत के छेद से निकल रही गरमी का अहसास अपने लंड के सुपारे पर हो गया था. फिर मैंने अपनी गांड को आगे की तरफ धकेलना शुरू किया तो लंड का सुपारा उनकी चूत के छेद को फैलाता हुआ अन्दर जा घुसा.

मामी- अया.. उई अई..ह.. ऊऊऊओ.. बहुत ही बढ़िया… मेरे राजा.. चैन मिल गया.
मैं- ओह मामी बहुत गरम हो गई है आपकी चूत.. आह..

अब मैं पूरे जोश में आकर अपने लंड को मामी जी की चूत के अन्दर बाहर करने लगा. मामी जी भी अपनी टाँगों को पूरा ऊपर उठा कर अपनी चूत में मेरा लंड ले रही थीं. मामी जी चरम सीमा पर थीं, वो अपने चूतड़ जोर जोर से हिला रही थीं.

मामी- राहुल, पूरी ताकत से चोद मुझे.. मैं बस आने वाली हूँ.

मैं भी पूरी तेजी से उन्हें चोदे जा रहा था. मामी जी का शरीर अब अकड़ने लगा था, उन्होंने मुझे कस कर पकड़ा और ‘ह्ह्ह्हह… अह्हह.. ह्ह्ह… अह्हह.. स्सस्सस..’ करते हुए वो झड़ गईं. लेकिन मेरा नहीं हुआ था, तो मैंने धक्के लगाने जारी रखे.

मामी जी- रुको.. लंड बाहर निकालो.
मैं- क्या हुआ मामी जी?
मामी जी- चलो अब दूसरा काम भी शुरू करते हैं.
मैं समझ गया और मैंने अपना लंड मामी जी की चूत से बाहर निकाला और कहा- चलो अब पलट जाओ मामी जी.
मामी जी- इस पोजीशन में नहीं.
मैं- फिर किस पोजीशन में चुदवाओगी अपनी गांड.. मेरी रानी मामी जी?
मामी जी- कोई भी.. लेकिन दूसरी पोजिशन में, जिससे गांड मरवाने में मजा आए.
मैं- चलो तो घोड़ी पोजीशन चुदाई करते हैं. उस दिन वो घोड़ा कैसे घोड़ी की चुदाई कर रहा था, ठीक उस जैसी.
मामी जी- ओह तो ठीक है मेरे घोड़े आ जाओ.

फिर छत पर मैंने खड़े होकर देखा, तो हर तरफ अँधेरा था.

यह कहानी आप autofichi.ru में पढ़ रहें हैं।

इसके बाद मैंने मामी जी को छत पर उनके दोनों हाथों को सामने बाउंड्री के ऊपर रख कर घोड़ी बनाया और बोला कि अब थोड़ा झुक जाओ.

फिर मामी जी ने थोड़ा सा आगे की तरफ झुकते हुए, अपनी गांड को पीछे से बाहर की तरफ निकाल लिया.

अब मैं घोड़ी बनी मामी जी की गांड के ठीक पीछे आ गया और उनसे चिपक गया, पीछे से उनके दोनों मम्मों को पकड़कर मसल डाला. वो एकदम से सिसक उठीं. नीचे मेरा लंड मामी जी की गांड के ऊपर रगड़ खा रहा था. मामी जी भी मेरे लंड को अपनी गांड की दरार में चुभन महसूस करके मचल उठीं- ओह्ह्ह राहुल.. अब डाल दीजिए.

मैंने अपने दोनों हाथों से मामी जी के मुलायम मुलायम चूतड़ फैलाये और फिर अपने लंड का सुपाड़ा उनकी गांड के छेद पर टिका दिया. उनकी कमर को पकड़ कर एक जोरदार झटका मारा, मेरा आधा लंड उनकी गांड को चीरता हुआ अन्दर घुस गया, जिसकी वजह से उनकी सिसकारियां निकल गईं ‘आईईईई स्सीईईई…’

अब मैं धीरे धीरे धक्के लगाने लगा. ऐसे ही करते करते मैंने अपने लंड को सुपारे तक बाहर निकाला और एक जोरदार धक्का मारा, तो मेरा पूरा का पूरा लंड गांड के अन्दर घुस गया और उनकी मुँह से चीख निकल गयी- ऊऊईईई.. ईईई ईईईईई… चोद मेरे राजा चोद मुझे.. जी भर के चोद.. उम्म उफ़फ्फ़ हाय्यी उम्म्म अहह..

यह कहते कहते मामी जी और आगे की तरफ झुक गईं.

अब मेरे हाथ आगे की ओर होते हुए उनके स्तनों को मसल रहे थे, उनके निप्पल को पकड़कर खींच रहे थे. इस स्टाईल में उन्हें दोनों तरफ से इतना मज़ा आ रहा था कि वो ‘आहह, ऊहह, फफफ्फ़..’ करने के साथ बोले जा रही थीं- करते रहिए रुकिये नहीं.. बहुत मजा आ रहा है.

मेरा लंड उनकी गांड में धीरे धीरे अन्दर बाहर हो रहा था. मुझे भी बहुत मजा आ रहा था. मामी जी भी अपने नितंबों को पीछे की और धकेल कर अपनी गांड में लंड का मज़ा ले रही थीं.
मामी- हाँआआ.. राहुल अन्दर तक डाल दो अपने लंड को मेरी गांड में.. आह.. फाड़ दो इसे… लगाओ जोर के धक्के…
मैं- हाँ.. मेरी रानी.. ये लो.. यस.. हेया आहा आहह.. अह्ह्ह्ह ईए ले.. अह्ह्ह्ह..

मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा.

इतना मज़ा आ रहा था मामी जी को कि बिना चूत में कुछ डाले ही चरमोत्कर्ष के कारण स्वतः ही उनकी चूत का बाँध छूट गया और उनका कामरस जांघों से होते हुए नीचे गिरने लगा.

मामी- चल मेरे घोड़े.. फटाफट और ज़ोर से और जोर से आज आपकी मामी रानी मस्त हो गयी है.. आज मान गयी आपको राहुल.. आआआअह्ह्ह उउम्म्म्म जान बहुत मज़ा आ रहा है.. मुझे नहीं मालूम था कि इतना मज़ा भी आएगा.. उउम्म.. आआह्ह्ह्ह..

उनके मुँह से लगातार सिसकारियां निकल रही थीं, जो मेरे कानों में पड़ कर मेरा जोश बढ़ाने लगीं.

इससे मेरी रफ़्तार और तेज़ हो गई और मैं अपनी मंजिल के करीब पहुँच गया. अति-उत्तेजना के कारण मैंने अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी और उनकी कमर को कसकर पकड़ लिया. फिर अपने लंड से वीर्य का फव्वारा मामी जी की गांड के अन्दर ही छोड़ दिया.

मेरा वीर्य उनकी गांड से बह कर जांघों तक जा रहा था. मेरे वीर्य से मामी जी की गांड पूरी तरह से भीग गई थी.

झड़ने के बाद मैं अकड़कर मामी जी से वैसे ही लिपट गया. फिर कुछ देर बाद अपने लंड को बाहर निकाल लिया. इसके बाद हम दोनों बेड पर आकर सो गए.

इसके बाद क्या हुआ ये फिर कभी लिखूंगा.
कहानी कैसी लगी प्लीज़ जरूर बताना.



"सैकस कहानी""hindi sexes story""mast sex kahani""hot maa story""aunty ke sath sex""sex story mom""mastram ki sexy kahaniya""saxy store hindi""hindi sexy story in hindi language""bhabhi ki behan ki chudai""bap beti sexy story""हिंदी सेक्स कहानियाँ""chudai khani""anal sex stories""kamukta hot""hot hindi store""rajasthani sexy kahani""chudae ki kahani hindi me""new hindi sex story"kamukta."chudai meaning""bhabhi ki gaand""bahan kichudai""kajol ki nangi tasveer"indiansexkahani"bhabhi ki chudai kahani""indian srx stories""sexy story with pic""bhai bahan sex store""www indian hindi sex story com""इंडियन सेक्स स्टोरी""hindi sexy hot kahani""best sex story""teacher ko choda""sex story didi""nude sex story""hindi swxy story""new sex stories""garam bhabhi""sex story group""didi sex kahani""hot lesbian sex stories""sexy kahania""chudai mami ki""sex story hindi language""hindi xxx kahani""chodan .com""school sex stories""risto me chudai hindi story""porn sex story""hindi font sex stories""group chudai""hindi sex kahania""chudai mami ki""sexy story written in hindi""मौसी की चुदाई""read sex story""biwi aur sali ki chudai""sexy chut kahani""sexs storys""hindi bhai behan sex story""himdi sexy story""sex story real""hot bhabi sex story""सेक्स स्टोरी इन हिंदी"sexstories"chachi ki chudai story""सेक्सी हॉट स्टोरी""mousi ko choda""indian sexy khaniya""hot sex story in hindi"