आधी अधूरी सुहागरात

(Aadhi Adhuri Suhagrat)

प्रेषिका : राबिया

पिछले महीने 19 जनवरी की रात जीजी की शादी हुई और इसी के साथ वो शादीशुदा हो गई। अगले दिन उनकी विदाई हुई और दो दिन बाद वो घर लौट आई पगफ़ेरे के लिए।

उनके घर आते ही हम उन्हें छेड़ने लगीं- जीजी बताओ ना क्या क्या हुआ…?

पता चला कि जीजी के पिरीयड चल रहे थे इसलिए उनका अभी कुछ नहीं हो पाया है।

और जब पाँच दिन के बाद जीजू जीजी को लेने ले लिए आए तो उनकी असली सुहागरात तो हमारे यहाँ ही होनी थी ना..

क्योंकि जीजी-जीजू अगले दिन जाने वाले थे तो घर के बड़ों से थोड़ा छुपा कर रात में हमने उनका कमरा खूब सजाया।

मैं भी उनके बगल वाले कमरे में थी तो मैंने जीजू को मजाक में कहा भी- अगर कुछ जरूरत हो तो बताना, हम भी बगल वाले कमरे में ही हैं।

पर मेरी आँखों में नींद नहीं थी, यही सोच रही थी कि अन्दर क्या चल रहा होगा?

और आख़िर में मैने फ़ैसला कर ही लिया, जीजी के कमरे में खुलने वाली एक खिड़की की झिर्री में अपनी आँख लगा दीं, और देखा…

कमरे बल्ब जल रहा था तो मैं साफ़ साफ़ देख पा रही थी, जीजी लाल रंग की साड़ी में पलंग पर बैठी थी और जीजू कुरते पायजामे में थे। जीजू के आते ही वो थोड़ा सा हिली और उनकी चूड़ियाँ और पायल बज उठी।

जीजू ने जीजी को एक डायमंड की अंगूठी दी तो जीजी बोली- इसकी क्या जरूरत थी?

जीजू बोले- अरे यह तो तुम्हारी मुँह दिखाई है, वैसे भी आज तुम बहुत सुंदर दिख रही हो।

उन्होंने जीजी को अपनी बाहों में भर लिया और उनके माथे, गाल, और होंठों पर चुम्बन छापने शुरू कर दिएए। ऐसा लग रहा था कि दो प्रेमी बड़े दिनों के बाद मिले हों।

शुरू में उनके हाथ स्थिर थे पर जैसे जैसे वासना का तूफ़ान परवान चढ़ रहा था वैसे वैसे दोनों के हाथ एक दूसरे को खोज रहे थे, जीजी के हाथ जीजू की पीठ पर थे और जीजू के हाथ जीजी के पीठ पर से होते हुए चूतड़ों पर आ गए और उन्हें कस लिया।

जीजू ने अपने एक हाथ को जीजी की बाईँ चूची पर रखा तो जीजी ने जीजू को देखा और फिर से किस करने लगी।

शायद यह एक हाँ थी !

जीजू ने अपने दोनों हाथों से जीजी के उभारों को साड़ी के ऊपर से ही मसलना शुरू कर दिया था और जल्दी ही उन्होंने जीजी की साड़ी भी निकाल दी।

इधर मेरा एक हाथ भी मेरी स्कर्ट के अन्दर मेरी फ़ुद्दी पर पहुँच चुका था।

जीजू ने जीजी के पेटीकोट का नाड़ा टटोल कर उसे खोल दिया। उनका पेटीकोट खुलकर उनकी जाँघों पर सरक आया।

“यह आप क्या कर रहे हो?” जीजी बोली।

तो जीजू ने बोला- अब तुम मेरी बीवी हो और मैं तुम्हारे साथ कुछ भी कर सकता हूँ, तुम्हें कोई ऐतराज है?

जीजी ने बोला- “नही…”

और जीजी उसमें से बाहर निकल कर खड़ी हो गई। जीजी ने चमकते लाल रंग की एक पैंटी पहन रखी थी जिसमें से उनके चूतड़ खूब दमक रहे थे।

अब वो जीजू की पकड़ में थीं, एक ब्लाऊज, पैंटी और एक ब्रा पहने हुए।

जीजू ने जीजी को घुमाया और उनका मुँह ड्रेसिंग टेबल के शीशे की ओर कर दिया और पीछे से हाथ आगे लाये और जीजी के उरोजों को जकड़ लिया अपनी हथेलियों में। जीजी भी कराह रही थी।

उन्होंने जीजी के गले और गर्दन और कान के नीचे चूमना शुरू किया, जीजू ने जीजी के ब्लाऊज भी खोल दिया और जीजी अब ब्रा में उनके सामने थी।

जीजू ने जीजी की ब्रा भी उतार दी और दोनों स्तन अपने हथेलियों में भर लिए। जीजी के मुँह से आह निकल रही थी, जीजू बीच बीच में जीजी के निप्पल भी चूस रहे थे। अब जीजी सिर्फ़ लाल रंग की एक पैंटी में थी।

जीजू ने उन्हें पलंग पर लिटा दिया, उनके चुच्चे एकदम गोल गोल और ऊपर उठे हुए थे. जीजू ने अपने कपड़े खोलने शुरू कर दिए. और सिर्फ़ अंडरवियर में वो भी पलंग पर आ गए।

उनका लौड़ा उस अंडरवियर में से बाहर आ जाना चाह रहा था।

दोनों एक दूसरे के शरीर से लिपट गए थे। जीजू जीजी की टांगों के बीच में उनकी चूत पर हाथ फेर रहे थे और अपने सीने के नीचे जीजी के कबूतर दबाए हुए थे।

जीजू ने जीजी की पैंटी के अन्दर हाथ डाला और उनके नंगे कूल्हों पर हाथ फेरना शुरू कर दिया और जीजी ने जीजू के कहने पर उनके अंडरवियर को उतार दिया और लण्ड को पकड़ कर रगड़ना शुरू कर दिया।

तब जीजू ने भी जीजी की पैंटी उतारनी चाही तो जीजी ने अपने चूतड़ ऊपर उठाकर जीजू की मदद कर दी।

बस अब दोनों पूरे नंगे थे और यह सब मेरी आँखें देख रही थी, मेरी चूत नल की तरह पानी छोड़े जा रही थी।

जब जीजू जीजी को घूरने लगे तो जीजी ने अपना मुँह अपनी हथेलियों से ढक लिया। जीजी के गोरे बदन पर सिर्फ़ चूत के ठीक ऊपर हल्के हल्के बाल थे और जीजू उनमें अपनी उंगलियाँ फेर रहे थे।

जीजू का लौड़ा एकदम खड़ा था डण्डे की तरह।

जीजू ने जीजी की टाँगें फैलाई, उनके बीच में बैठ गए और नीचे झुके और उनके चूत पर किस कर लिया।

जीजी इसके लिए तैयार नहीं थी और अपने दोनों हाथों से अपनी चूत को ढकने लगी।

वो अपना सर हिलाकर मना करने लगी- वहाँ नहीं…!

जीजू ने जिद नहीं की और उनके पेट पर किस करते हुए बूब्स की ओर बढ़ने लगे। दोनों हाथों से वो दोनों स्तनों का मर्दन करने लगे और जीजी के मुँह से सिसकारी निकलने लगी।

यह कहानी आप autofichi.ru में पढ़ रहें हैं।

फिर एक स्तन को चूसते और दूसरे के निप्पल को उँगलियों से रगड़ने लगते, जीजी के हाथ जीजू की पीठ पर लिपटे हुए थे।

जीजू ने जीजी का एक हाथ अपने लंड पर रख दिया और उधर जीजू ने तकिये के नीचे से कंडोम का पैकेट निकाल लिया।

और फिर एक कंडोम निकाल कर अपने लंड पर चढ़ा लिया। जीजू जीजी के ऊपर थे और उनका लंबा मोटा लिंग जीजी की जाँघों के बीच में ठीक चूत के सामने लटका हुआ था।

जीजू ने जीजी के कान में कुछ फुसफुसाया और जीजी ने तुंरत ही अपने चूतड़ों और घुटनों को ऊपर नीचे करके उनके लंड को अपनी चूत पर टक्कर दिलवाने लगी।

मेरी उंगलियाँ मेरी भगनासा को जोर जोर से रगड़ रही थी और मेरी चूत में से पानी बहे जा रहा था, मन तो उंगली को चूत के अन्दर डालने को हो रहा था पर मजबूर थी चूँकि अभी तक मैं कुंवारी ही थी, मेरा मतलब मेरी योनि में झिल्ली टूटी नही थी, इसलिए उंगली नहीं डालना चाहती थी।

उधर, जीजी जीजू के लिंग को अपनी चूत के प्रवेश पर बार बार रगड़ रही थीं और शायद जैसे ही वो सही सीध में आया, जीजू ने धीरे धीरे नीचे होना शुरू किया.. पर या तो चिकनाई ज्यादा थी या जीजी का छेद सही नहीं बैठ पा रहा था, उनका लिंग फ़िसल गया।

जीजी ने अपना हाथ बढ़ाया और अपने हाथ से उनके लिंग को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर फिर रखा और फिर से नीचे दबाने को कहा… पर इस बार फिर लिंग नाभि की तरफ़ चला गया..

तब जीजू ने ख़ुद ही अपने लिंग को पकड़ा और जीजी की चूत में डालने की कोशिश की और जैसे ही उन्होंने एक हल्का सा धक्का लगाया, तो शायद वो थोड़ा अन्दर गया, क्योंकि जीजी के हाथ और पाँव एकदम हवा में उठ गए और मुँह से सिसकारी निकल गई।

अभी दो तीन ही धक्के मारे थे जीजू ने कि जीजी ने उन्हें रोक दिया, बोली- दर्द हो रहा है… आज मत करो… शोर होगा, आराम से करेंगे …

और जीजू मान भी गए, पर इस सबसे मुझे यह पता लगा कि शायद जीजी अभी भी कुंवारी हैं और वो इससे पहले कभी नहीं चुदी !

जीजू जीजी की बात मान गए, कंडोम निकाल दिया और पलंग पर लेट गए।

पर जीजू के चेहरे से लग रहा था कि वो जीजी के मना करने से खुश नहीं हैं।

जीजी ने भी यह बात महसूस की और वो उठकर बैठ गई। जीजू के ऊपर आकर उन्हें किस करने लगी। उनके लिंग को छोड़कर जीजी ने उन्हें हर जगह चूमा।

फिर वो जीजू के बाईँ ओर बैठ गई और जीजू के लिंग को पकड़ कर सहलाने लगी।

जीजू जे कहा- इसकी भी चुम्मी लो ना !

जीजी ने जीजू के लिंग पर अपने होंठ छुआ दिए। तभी जीजू ने ऊपर कि एक झटका दिया और…

…ओह माय गोड ! क्या सीन था वो…

जीजू के लिंग का अगला मोटा भाग मेरी जीजी के मुँह में था !

जीजू ने जीजी का सिर पकड़ लिया और लण्ड को निकालने नहीं दिया और अपने लिंग के ऊपर जीजी के मुँह को ऊपर नीचे करने लगे। एक आध बार जीजी ने लिंग बाहर निकालने की कोशिश भी की पर सफल ना हो पाई।

पर यह सब कुछ देर ही चला क्योंकि अचानक ही जीजू ने जीजी को पीछे हटते हुए फुसफुसाया- आह ! मैं निकलने वाला हूँ… और ऐसा कहते ही उनके लिंग से वीर्य का फव्वारा फूट पड़ा।

वो तो जीजी हट गई थी वरना सारा माल उनके मुँह में ही जाता।

सारा माल लिंग से निकल कर उनके पेट पर फेल गया और थोड़ा जीजी के हाथों में भी क्योंकि लिंग पकड़ा जो हुआ था।

जीजू ने अपना कुरता लिया और अपना पेट और जीजी के हाथ को साफ़ किया और उसके बाद दोनों नंगे ही एक दूसरे के साथ लेट गए।

दोनों एक दूसरे को ‘आई लव यू’ बोले जा रहे थे…

उनकी सुहागरात आधी अधूरी ही सही, हो चुकी थी और मेरे बदन में आग लग चुकी थी और मैं अब तक एक बार परम आनन्द हासिल कर चुकी थी।

कुछ देर बाद जीजी ने कमरे का बल्ब बंद कर दिया और मैं भी खिड़की से हट कर अपने बिस्तर पर लेट गई।



"antarvasna bhabhi""chudai ki khaniya""new sex story""hot gandi kahani""mausi ki chudai ki kahani hindi mai""sex stories hot""beti ko choda""sx stories""desi kahani 2""hindi sex stori"kamukatasexstorieshindi"bhai bahan ki chudai""www hindi sexi story com""muslim ladki ki chudai ki kahani""chodan com""hindi chudai stories""hindi sex story image""sex story sexy""indian sex stories in hindi font""bhabhi ki chudai kahani""sexy chachi story""new hot hindi story""hindi sexy kahniya""first time sex stories""bhid me chudai""sex shayari""sexy kahani with photo""maa bete ki chudai""marathi sex storie""hondi sexy story""hindi gay sex kahani""mastram sex stories""desi kahania""naukrani ki chudai""indian aunty sex stories""sexi stori""naukrani sex""sex stories in hindi""hot store hinde""sex hindi kahani""hindi adult story""jija sali ki chudai kahani""jija sali""bhabhi ki gaand""hot sex stories""hindi group sex story""desi kahaniya""सेक्स स्टोरी""hot n sexy story in hindi""sex kahani""desi kahaniya""oral sex in hindi""girlfriend ki chudai ki kahani""didi sex kahani""new hindi sexy storys"indiansexstorie"desi sex kahaniya""honeymoon sex stories""bhabhi ki chudai ki kahani in hindi""chudai ki khaniya""romantic sex story""punjabi sex story""chut kahani""kamukta kahani""bahen ki chudai""indian mom sex story""bhabhi ki choot""kamukta www""hot hindi sex story""tamanna sex story""kamukata sex story com""indian sex storirs""sexy story in hindhi""choti bahan ko choda""desi kahaniya""oriya sex stories""sexy story hindhi""sex photo kahani""new sex story in hindi""devar bhabhi hindi sex story""indin sex stories""indian sexy khani"indiansexstorirs"aex story""maa bete ki hot story""sex stories.com""desi chudai stories""romantic sex story""parivar ki sex story""wife sex stories""bhabhi ki chudai kahani""hindi sex kahaniya in hindi""sex story inhindi""hot stories hindi""hindi hot store""mom and son sex story""hot desi sex stories"